रतलाम

हत्या, अपहरण के आरोपी को मंदसौर जिले से पकड़ा

रतलाम/रिंगनोद। समीपस्थ ग्राम कांकरवा बालाजी के एक युवक को शराब पिलाकर उसकी हत्या करने तथा महाराष्ट्र की एक नाबालिग लड़की को भगाने वाले एक आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वहीं मामले का एक अन्य आरोपी अब भी पुलिस की गिरफ्त से फरार है। मामले का खुलासा मंगलवार को एसडीओपी ने किया।
मंगलवार को दोपहर में मामले का खुलासा करते हुए एसडीओपी माले ने बताया कि 7 जून 19 की रात में पवन और तेजस नाम के दो युवकों ने अपने दोस्त जगदीश पिता धुरा निवासी कांकरवा बालाजी के साथ शराब पी और उस पर जानलेवा हमला कर, दोनों मौके से फरार हो गए। आरोपियों के फरार होने के बाद जगदीश ग्राम मरम्या के पास रोड पर खून से लथपथ पड़े होने की सूचना असावती चौकी को मिली, सूचना पर पुलिस पहुंची और घायल जगदीश को सरकारी अस्पताल पहुंचाया। उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस ने जगदीश के मरणासन्न्न अवस्था में दिए बयान के आधार पर पुलिस ने मामले में दोनों आरोपियों पर ३०७, ३४ के तहत प्रकरण दर्ज कर मामले को विवेचना में लिया।
मामले मेंंं पुलिस ने आरोपी पवन पिता बालाराम जाति मालवीय (२५) निवासी ग्राम कंाकरवा को ग्राम रातीखेड़ा जिला मंदसौर से गिरफ्तार किया है। वहीं तेजस पिता दिलीप तिरपूड़े निवासी वर्धा महाराष्ट्र की तलाश में ताल, सीतामऊ, आलोट व मंदसौर के साथ ही सोशल मिडिया पर भी तलाश जारी है।
एसडीओपी माले ने बताया कि रिंगनोद थाना थाना प्रभारी रिंगनोद गिरीश जेजुरकर सहित टीम ने लड़की को आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की मदद से जगदीश के घर से जब्त किया और उसे रतलाम चाईल्ड लाइन भेजा। अपहृत लड़की द्वारा दी जानकारी के आधार पर लड़की के पिता मोहन से मोबाइल पर बात करवाई गई तो उसने बताया कि उसने अपनी लड़की के अपहरण की रिपोर्ट पुलिस थाना वर्धा में तीन माह पूर्व दर्ज करवाई थी। जिस पर पुलिस ने धारा ३६३ के तहत प्रकरण दर्ज किया था। मामले को ४८ घंटे में सुलझाने पर पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी ने दल को १० हजार रुपए का इनाम देने की घोषणा की है।
यह था मामला
पवन और उसका दोस्त तेजस महाराष्ट्र के वर्धा में मजदूरी करते थे, उस दौरान दोनो की दोस्ती हो गई। इसके बाद वहां से वर्धा से मजदूरी करने इंदौर आ गया। तीन माह बाद उसका दोस्त तेजस वर्धा महाराष्ट्र से एक नाबालिग लड़की का अपहरण कर इंदौर लाया। दोनों को इंदौर से गुजरात भेज दिया तथा स्वयं इंदौर से अपने गांव कांकरवा आकर मंदसौर में अपने ससुराल लालघाटी में रहकर मंडी में करने लगा। गुजरात में तीनों जगदीश के किराये के मकान में तेजस व उसके साथ भगाकर लाई लड़की के साथ रहने लगे। उसी दौरान जगदीश की तेजस द्वारा भगाकर लाई लड़की से दोस्ती हो जाने से ६ जून १९ को जगदीश लड़की को गुमराह कर अपने साथ कांकरवा अपने घर ले गया। तेजस को जगदीश पर शंका होने पर उसने पवन को बुलाकर जगदीश से सम्पर्क किया और शराब पीकर उस पर जानलेवा हमला कर दिया जिससे वह बेहोंश हो गया। जिस पर जगदीश को मरा हुआ समझ कर उसे जलाने के मकसद से उसके कपड़ों में आग लगा दी व जगदीश की बाइक लेकर दोनो फरार हो गए।

About the author

Sachin Mali

Add Comment

Click here to post a comment