रतलाम

पहले जीप को मारी टक्कर फिर पुलिस पर चढ़ाना चाही पिकअप

रतलाम/जावरा। लोकसभा चुनाव की आचार संहिता समाप्त होने के बाद से ही क्षेत्र में पशु तस्करी करने वाले तस्कर पुन: सक्रिय हो गए हैं। छोटे पिकअप वाहनों में मवेशी व केड़ों को क्रूरतापूर्वक भरकर इन्हें वध के लिए ले जाया जा रहा है। पुलिस जब इन वाहनों को पकडऩे का प्रयास करती है, तो ये वाहन चालक पुलिस पर भी अपना वाहन चढ़ाने से नहीं घबराते है।
ऐसी ही एक घटना मंगलवार को दोपहर में ढोढर पुलिस चौकी के सामने घटित हुई जिसमें मंदसौर की और से बैलों को भरकर ला रही एक पिकअप क्रमांक एमपी 14 जीसी0923 को जब पुलिस ने रोकने का प्रयास किया तो पिकअप चालक ने स्पीड बढ़ाते हुए पुलिस जवानों पर वाहन को चढ़ाने का प्रयास किया। लेकिन जब प्रयास विफल हुआ तो पुलिस के फॉलो वाहन को टक्कर मारकर क्षतिग्रस्त किया और वाहन को तेजगति से भगाते हुए जावरा की और भागने में सफल हो गए।
पिकअप में क्रूरतापूर्वक पुशओं को लेकर जाने तथा पुलिस वाहन को टक्कर मारने व पुलिस जवानों पर वाहन चढ़ाने के मामले में पुलिस ने जाफर पिता मुंशी खां (२४) निवासी नई आबादी बोतलगंज थाना पिपलियामंडी तथा फिरोज पिता हुसैन (२२) मुल्थानपुरा वाईडी नगर मंदसौर पर पशु क्रुरता अधिनियम की धारा के साथ ही भादवि की धारा 307 के तहत प्रकरण दर्ज कर दोनो आरोपियों को गिरफ्तार किया। पुलिस की इस कार्रवाई में दिलीप खाती, महेश मिश्रा, राजपालसिंह, मनोहर गायरी तथा नितीन जोशी ने सहयोग दिया।
जावरा पुलिस ने घेरा
ढोढर में पुलिस के वाहन को टक्कर मारकर निकली पिकअप को पकडऩे के लिए वायरलेस सेट पर जावरा को सूचना दी गई। जिस पर जावरा पुलिस ने उक्त पिकअप को पकडऩे का प्रयास किया लेकिन पिकअप चालक उज्जैन बायपास से होकर शहर में घुसा और तालनाका की और से हाथीखाना में घुसा, जहां पिकअप को छोड़कर उसमें सवार दोनो आरौपी पुल बाजार की और से शहर के बाजार की भीड़ में खोने का प्रयास करने लगे। इधर पुलिस के साथ ही कुछ युवा भी इनके पीछे दौड़ रहे थे। इस पकड़ा धकड़ी के दौरान में बाजार में फिल्मी स्टाईल में पुलिस इन बदमाशों का पीछा कर रही थी।
दुकान में घुसा
एक बदमाश भागते भागते बजाजखाना की एक कपडे की दुकान में घुस गया, जिसे दुकान संचालक ने दुकान से बाहर निकाला और पुलिस के हवाले किया। इधर हनुमान गली में दूसरे बदमाश को लोगों ने पकड़ा और पुलिस को सुपुर्द किया। पब्लिक दोनो आरोपियों को पुलिस को सौंपने से पहले पिटाई भी की।

About the author

Sachin Mali

Add Comment

Click here to post a comment